1MW या उससे अधिक केपेसिटी वाले सोलर पावर को ग्राउंड माउंटेड सोलर पावर प्लांट, सोलर पावर स्टेशन या एनर्जी जनरेटिंग स्टेशन माना जा सकता है। यह सोलर पावर बड़ी मात्रा में बिजली का प्रोडक्शन करता हैं जो किसी भी कंपनी को बिजली देने के लिए पर्याप्त है 1MW सिस्टम से आप सरकार को भी बिजली बेच सकते है। 

भारत सरकार का (एम.एन.आर.ई) कहना है कि कोई भी सोलर पावर सिस्टम से बिजली जनरेट कर सकता है और ज्यादा बिजली को नेट-मीटरिंग सिस्टम के माध्यम से निर्यात कर सकता है।

Read in English:

Ground Mounted Solar System
Ground Mounted Solar System

आज कोई भी अपनी जमीनों या छतों पर 1kW से 1MW की केपेसिटी वाला सोलर पावर को इंस्टॉल कर सकता है। न्यू और नवीकरणीय पावर मंत्रालय (एम.एन.आर.ई) और राज्य नोडल एजेंसियां भी पावर स्रोतों को बढ़ावा देने के लिए आवासीय, संस्थागत और गैर-लाभकारी संगठनों के लिए सोलर पर 20% -70% सब्सिडी दे रही हैं। राज्य बिजली बोर्ड और वितरण कंपनियां पूरी प्रक्रिया के दौरान आपकी सहायता करेंगी। यह योजनाएं भारत में बिजली प्रोडक्शन को बढ़ावा देंगी और लोगों को सोलर पावर सिस्टम इंस्टॉल करने के लिए प्रोत्साहित करेंगी।

Megawatt scale solar system
Megawatt scale solar system

भारत जैसे विकासशील देश में बिजली खपत लगातार बढ़ रही है और इसका प्रोडक्शन सीमित है। हमारे पास इतनी पावर को रखने के लिए पर्याप्त संसाधन नहीं हैं। इसलिए, पावर खपत के कारण सोलर पावर इंस्टॉल करना एक बुद्धिमानी का काम होगा।

Page Highlights:

1MW एक झलक में

पावर जनरेशन 

4000 kWH यूनिट/दिन

एवरेज प्राइस 

INR 4 से 5 करोड़

 

(सभी टेक्स के साथ)

एनुअल बचत 

1 करोड़  (लगभग)

एरिया रिक्वायर्ड

4 से 5 एकड़ 

#1. सोलर पावर प्लांट के टाइप

सोलर पावर सिस्टम के 3 टाइप हैं जो फोटोवोल्टिक प्रभाव के एक ही सिद्धांत पर काम करते हैं। इन सोलर सिस्टम में सोलर पैनल, सोलर इन्वर्टर और सोलर बैटरी शामिल हैं।

वीडियो के द्वारा सोलर सिस्टम के टाइप को समझें

ऑन-ग्रिड सोलर पावर प्लांट

ऑन-ग्रिड सोलर पावर प्लांट बड़े संस्थानों, कमर्शियल और टेक्नॉलजी क्षेत्रों के लिए सबसे उपयुक्त हैं क्योंकि इसमें कोई लोड सीमा नहीं है।

ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम सरकारी ग्रिड (सरकारी बिजली आपूर्ति) कनेक्टेड सिस्टम है। यह सोलर पावर का उपयोग करके घरेलू उपकरणों या कनेक्टेड लोड (बिना किसी सीमा के) को चलाएगा। यदि कनेक्टेड लोड सोलर पावर प्लांट की केपेसिटी से ज्यादा होगा, तो सिस्टम स्वचालित रूप से मुख्य ग्रिड से बिजली का उपयोग करेगा। यदि कनेक्टेड लोड प्रोडक्शन केपेसिटी से कम है, तो यह ग्रिड अतिरिक्त बिजली की आपूर्ति करेगा। इस टाइप के सिस्टम की सिफारिश केवल बिजली बिलों को कम करने के लिए किया जाता है।

ऑफ-ग्रिड सोलर पावर प्लांट

ऑफ ग्रिड सोलर पावर प्लांट ज्यादातर घरों और आवासीय क्षेत्रों के लिए उपयोग किए जाते हैं जहां नियमित और लंबी बिजली कटौती के कारण बैकअप की आवश्यकता होती है।

ऑफ-ग्रिड सोलर पावर प्लांट बैटरी पर आधारित सिस्टम है। इस टाइप के सोलर सिस्टम में सोलर पैनल, सोलर इन्वर्टर और सोलर बैटरी होती है। यह सिस्टम सोलर पावर का उपयोग करके आपके घरेलू उपकरणों या कनेक्टेड लोड (सोलर इन्वर्टर केपेसिटी के अनुसार) को चलाएगा।

हाइब्रिड सोलर पावर प्लांट

हाइब्रिड सोलर पावर प्लाट आवासीय और कमर्शियल दोनों स्थानों के लिए उपयुक्त हैं। इसकी आवश्यकता और केपेसिटी इसके इंस्टॉल उद्देश्य के अनुसार बदलते हैं।

हाइब्रिड सोलर पावर प्लांट ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम और ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम का मेल है। यह सोलर सिस्टम दोनों सिस्टमो की कार्यक्षमता को जोड़ता है। एक हाइब्रिड सोलर सिस्टम मुख्य बिजली ग्रिड से जुड़ता है और इसमें आपको बैकअप प्रदान करने के लिए इसे सोलर बैटरी से भी जोड़ा जा सकता है।

#2.1MW सोलर पावर प्लांट का डिजाइन

1MW सोलर सिस्टम को आपकी आवश्यकता के अनुसार डिजाइन और अनुकूलित किया जा सकता है। सोलर एक्सपट की एक टीम से संबंधित होने के बाद आप इस डिज़ाइन को बदल भी सकते हैं। यहां हमारे पास नीचे 1 मेगावाट सोलर पावर सिस्टम का एक डिजाइन है।

1MW सोलर पावर प्लांट के लिए कंपोनेंट्स रिक्वायर्ड 

क्वालिटी वाले सोलर एक सफल और कुशल सोलर पावर सिस्टम हैं। किसी भी स्थान पर 1 मेगावाट का सोलर पावर प्लांट इंस्टॉल करने के लिए आपको निम्नलिखित आवश्यकता होती है। आप उनकी शक्ति के अनुसार बढ़ाकर या घटाकर सोलर सिस्टम को अनुकूलित कर सकते हैं।

कंपोनेंट्स 

स्पेसिफिकेशन

क्वांटिटी 

सोलर PV मॉडलमोनो PERC (400 वाट)2,500 Nos.
सोलर इन्वेर्टर्स  MPPT टेक्नोलॉजी (1MW)1
 मॉनिटरिंग सिस्टमनटे ग्रटेड रिमोट मॉनिटरिंग सिस्टम वेबसाइड1
प्रोटेक्शन उपकरणSPD, MCB, DC फ्यूजडिजाइन या आवश्यकता के अनुसार
केबल्सDC साइड = 10 mm², AC साइड =LT: 16mm² & HT: 185mm²दूरी के अनुसार
सोलर स्ट्रक्चरग्राउंड माउंटेड1 मेगावाट
  • हमने गणना के लिए 400 वाट सोलर पैनल और 1 मेगावाट सोलर इन्वर्टर का उपयोग किया है।

#3. 1MW सोलर प्लांट की लागत

सोलर पावर सिस्टम की लागत हाल ही में बदली गई है सरकार सोलर सिस्टम पावर को कई तरह से बढ़ावा दे रही है। आप 4-5 करोड़ रुपये का निवेश करके 1MW सोलर पावर प्लांट लगा सकते हैं। और आप सरकार को 25 वर्षों से ज्यादा बिजली दे सकते हैं

1 मेगावाट बिजली प्लांट इंस्टॉलेशन और लागत

1 मेगावाट सोलर पावर सिस्टम निवेश की बेहतर समझ के लिए सभी प्राइज़ को टुकड़ों में अलग-अलग किया है।आप सोलर पैनल, सोलर इनवर्टर और अन्य एक्सेसरीज के प्राइज़ की तुलना और विश्लेषण कर सकते हैं।

पर्टिकुलर

एस्टिमेटेड कॉस्ट 

सोलर पैनल3 Cr.
सोलर इन्वर्टर1 Cr.
कॉम्बिनेर्स + जंक्शन बॉक्स20 लाख
प्रोटेक्टिव गियर्स अरेंजमेंट10 लाख
SCADA & डाटा लोग्गेर सिस्टम7 लाख
लैंड बैंक5 एकड़
इरेक्शन ऑफ़ प्रोजेक्ट50 लाख
टोटल प्रोजेक्ट कॉस्ट 4.87 Cr. (अप्प्रोक्स.)
  • 5 एकड़ भूमि प्राइज़ इसमें शामिल नहीं है।
  • ऊपर दिए गए सभी आंकड़े केवल एक विचार प्रदान करने के लिए हैं। इसे 1MW सोलर पावर प्लांट की सटीक और अंतिम प्राइज़ के रूप में न समझें।
  • प्राइज़ समय-समय पर घटते-बढ़ते सकते हैं।

1MW सोलर पावर प्लांट रखरखाव और लागत

सोलर पावर सिस्टम की एफिशिएंसी को बनाए रखने के लिए इसका उचित समय पर रखरखाव महत्वपूर्ण है।इसके नियमित रखरखाव पर कुछ पैसे निवेश करना मुश्किल नहीं है।

पर्टिकुलर

एस्टिमेटेड कॉस्ट 

मानवीय रिसोर्स10-12 लाख/वर्ष
सोलर पैनल मेंटेनेंस1 लाख/वर्ष
स्थानीय मेंटेनेंस60,000 – 80,000/वर्ष
टोटल मेंटेनेंस कॉस्ट 11,60,000 से 13,80,000/वर्ष
  • ऊपर दिखाए गए सभी आंकड़े सिर्फ एक विचार प्रदान करने के लिए हैं। इसे 1MW सोलर पावर प्लांट की सटीक रखरखाव लागत के रूप में न मानें।
  • प्राइज़ समय-समय पर घटते-बढ़ते सकते हैं।

#4.1MW इन्वेस्टमेंट मॉडल के टाइप

आपके घर, व्यवसाय, संस्थान और सोलर पावर सिस्टंम इनस्टॉल करने के दो तरीके या मॉडल हैं।

  • कैपेक्स मॉडल (एकमुश्त निवेश)
  • ओपेक्स या पी.पी.ए मोडल

#1.कैपेक्स मॉडल (वन टाइम इन्वेस्टमेंट)

CAPEX मॉडल मे पूंजीगत व्यय सब आपका होगा। सोलर सिस्टम इंस्टालेशन कंपनी को एक बार में सिस्टम के पुरे प्राइज़ का भुगतान करना होगा। इस तरह का इनस्टॉल पावर प्लांट आपका अपना सिस्टम होगा। आपको अगले 25+ वर्षों तक मुफ्त बिजली का लाभ मिलेगा। CAPEX मॉडल सबसे अच्छा होगा जब आप अपने घर या व्यवसाय के लिए 100kW या उससे कम केपेसिटी का सोलर सिस्टम लगाने की योजना बना रहे हों।

1 MW Solar Power Plant
1 MW Solar Power Plant

#2. ओपेक्स मॉडल (पी.पी.ए)

ओपेक्स मॉडल में केवल संचालन व्यय आपका होगा। सोलर सिस्टम इंस्टॉलेशन कंपनी आपके और इंस्टॉलेशन कंपनी के बीच 10-25 साल के पावर एग्रीमेंट (PPA) की सहायता से आपकी छत पर अपने प्राइज़ से सोलर सिस्टम इंस्टॉल करेगी।पी.पी.ए रेट्स (रु.3 से रु.7) आपके इंस्टॉलेशन आकार, पी.पी.ए अवधि और कंपनी की क्रेडिट रेटिंग पर निर्भर करती हैं। संस्थान, व्यवसाय या उद्योग के लिए 100kW से अधिक केपेसिटी वाला सोलर सिस्टम लगाना चाहिए। इसके लिए OPEX मोडल सबसे अच्छा विकल्प होगा।

OPEX Model Solar Power Plant Installations

सोलर सिस्टम द्वारा बनाई गई बिजली को कम प्राइज़ पर खरीदना सबसे अच्छा हल हैं इस तरह आपको अग्रिम लागत निर्माण लागत और रखरखाव लागत का भुगतान नहीं करना पड़ेगा। ऐसे बहुत से निवेशक हैं जो आपकी छत पर सोलर प्लांट लगा कर आप पावर एग्रीमेंट (पीपीए) के जरिए बिजली दे सके । यह मॉडल आम तौर पर टेक्नॉलजी और कमर्शियल सोलर सिस्टम लोगो के लिए काम करता है और भारतीय कंपनियों ने इसे कुछ शहरों में ग्राहकों के लिए पेश करना शुरू कर दिया है।

पी.पी.ए बिजली उपभोक्ता (इस मामले में, आप) बिजली जनरेटर (आमतौर पर एक निवेशक) के बीच एक औपचारिक समझौता है जो बिजली खरीदने के नियमों, शर्तों को निर्दिष्ट करता है।आमतौर पर पी.पी.ए की लंबाई (आमतौर पर 10- 25 वर्ष), सोलर प्लांट से बिजली के प्राइज़ (टैरिफ), और वार्षिक वृद्धि शामिल होती है।

1 मेगावाट सोलर पावर प्लांट एक महीने में कितनी बिजली जनरेट करता है?

1MW सोलर पावर प्लांट छोटी केपेसिटी सिस्टम नहीं है, इसलिए यह स्पष्ट है कि इसकी केपेसिटी बहुत ज्यादा होगी। लेकिन अब सवाल यह आता है कि आखिर यह वास्तव में कितनी बिजली जनरेट कर सकता है। तो चलिए इसके लिए निचे कैलकुलेशन देखते हैं।

  • 1kW सोलर सिस्टम = 4 यूनिट/दिन उत्पन्न करता है

इसलिए 1MW जनरेट करेगी

  • 4 यूनिट x 1000kW = 4,000 यूनिट/दिन (1MW = 1000kW)
  • 4,000 यूनिट x 30 दिन = 1,20,000 यूनिट/माह
  • 1,20,000 यूनिट x 12 महीने = 14,40,000 यूनिट/वर्ष।

लेकिन आपके द्वारा इनस्टॉल सोलर पैनल के टाइप, सोलर ब्रांड आदि के अनुसार सटीक अनुमान अलग हो सकते है।

1 मेगावाट सोलर पी.वी प्लांट से आमदनी

सोलर पावर प्लांट से होने वाली आय कई कारणों पर निर्भर करती है जैसे दैनिक बिजली प्रोडक्शन आपकी खुद की बिजली खपत सरकारी खरीद निर्देश और प्राइज़ आदि। 1 मेगावाट का सोलर पावर प्लांट 5 से 7 वर्षों के भीतर अपनी लागत की (औसतन) वसूली कर सकता है

पर्टिकुलर

डिस्क्रिप्शन 

डेली यूनिट्स जनरेटेड4000 यूनिट्स
इयरली यूनिट्स जनरेटेड4000×365=14,60,000 यूनिट्स
सरकारी भुगतान प्रति यूनिट

3.85/ यूनिट्स

[केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग (सीईआरसी) के अनुसार]

साल भर की कुल आय56,21,000
साल भर की शुद्ध आयरु 43,51,000 (कुल आय – वार्षिक रखरखाव लागत की )
ऊपर दिखाए गए सभी आंकड़े केवल 1MW सोलर पावर प्लांट से आय का एक विचार प्रदान करने के लिए हैं। इसे 1MW सोलर पावर प्लांट से होने वाली सही आय के रूप में न मानें।
  • ऊपर दिखाया गया बिजली प्रोडक्शन औसत आधार पर लिया गया है। सटीक बिजली प्रोडक्शन दैनिक सूर्य /घंटे उपलब्धता पर निर्भर करता है।
  • प्रति यूनिट सरकारी बिजली के प्राइज़ अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग होते है और सरकार की नीति के अनुसार  कम ज्यादा  हो सकता है।

#5.1MW सोलर प्लांट प्रोजेक्ट रिपोर्ट

हम देखते हैं कि 1 मेगावाट सोलर सिस्टम लगाने के लिए निवेश,मॉडल के बारे में जानकारी की भारी मांग है। हमने 1 मेगावाट का अनुमान लगाया है।

पर्टिकुलरडिस्क्रिप्शन 
पावर प्लांट की केपेसिटी 1 MW
जनरेशन प्रति वर्ष14.60 लाख (औसतन)
गिरावट 1 से 10 वर्ष0.05%
गिरावट 11 से 25 वर्ष0.67%
ऋण प्रतिशत70%
इक्विटी प्रतिशत30%
ब्याज दर (भारतीय)13.0%
ब्याज दर (विदेशी)10%
चुकौती अवधि (भारतीय)11 साल
चुकौती अवधि (विदेशी)15 साल
भारतीय ऋण का प्रतिशत70%
बिजली की बिक्रीरु .6.49
प्रति मेगावाट परियोजना की लागत450 लाख
O&M लागत प्रति मेगावाट8 लाख/वर्ष
डेप्रिसिएशन5.28%
कॉर्पोरेट टैक्स30.28%

मिनिमम वैकल्पिक टैक्स

18.38%
प्रोजेक्ट कॉस्ट450 लाख
कर्ज355 लाख
हिस्सेदारी95 लाख

दस वर्षों के लिए 1MW ​​सोलर प्लांट की तरीका नीचे दिया गया है।

वर्षों

2018

2019

2020

2021

2022

2023

2024

2025

2026

2027

टोटल

रेवेनुए

113.5

113.5

113.4

113.4

113.3

113.2

113.2

113.12

113.1

112.9

1133

ऑपरेशनल एक्सपेंसेस

8

8

8

8

8

8

8

8

8

8

80

बैंक इंटरेस्टमेन्ट पेमेंट

57.1

51.8

46.4

41

35.6

30.2

24.9

19.5

14.1

8.7

330

डेप्रिसिएशन

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

343

टोटल एक्सपेंस (AD के बिना)

99.4

94.1

88.7

83.3

77.9

72.5

67.2

61.8

56.4

51.0

753

प्रॉफिट बिफोर टैक्स (AD के बिना)

14.1

19.4

24.7

30.1

35.4

40.7

46.0

51.2

56.7

61.9

380

टैक्सेशन (AD के बिन)

2.7

3.7

4.7

5.7

6.8

7.7

8.7

9.7

10.8

11.8

72

प्रॉफिट आफ्टर टैक्स (AD के बिना)

11.4

15.7

20.0

24.4

28.6

33.0

37.4

41.5

45.5

50.2

308

प्रॉफिट आफ्टर टैक्स (AD के बिना)

11.4

15.7

20.0

24.4

28.6

33.0

37.4

41.5

45.5

50.2

308

डेप्रिसिएशन

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

34.3

343

बैंक डेब्ट सर्विस अमाउंट

41.37

41.37

41.37

41.37

41.37

41.37

41.37

41.37

41.37

41.37

413

#6. 1MW सोलर प्लांट बैलेंस शीट

यहां 1MW सोलर पावर प्लांट की बैलेंस शीट दी गई है।

एक्सपेंडिचर अमाउंट (रु)अमाउंट (रु)
ऑपरेशनल खर्च8,000,000 
बैंक इंटरेस्ट पेमेंट33,000,000 
डेप्रिसिएशन34,300,000 
टोटल एक्सपेंस ( AD के बिना) 75,300,000
प्रॉफिट बिफोर टैक्स (AD के बिना) 38,000,000
टैक्सेशन ( AD के बिना)7,230,000 
(न्यूनतम वैकल्पिक टेक्स 19%)  
प्रॉफिट आफ्टर टैक्स ( AD के बिना)30,770,000 
  113,300,000
डेप्रिसिएशन34,300,000
प्रॉफिट बिफोर टैक्स (AD के बिना)30,770,000
खाते में कुल राशि65,070,000
बैंक ऋण राशि41,300,000
बैलेंस कॅश इन हैंड23,770,000

#7. भारत में सोलर पावर प्लांट

India's Top 10 States with Solar Installation
India's Top 10 States with Solar Installation

भारत सबसे बड़ा बिजली प्रोडक्शन विभाग है। भारत में स्वच्छ पावर की मांग बहुत बड़ी है इसलिए, भारत सरकार ने 11 जनवरी 2010 को जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय सोलर मिशन(जे.एन.एन.एस.एम) लॉन्च किया है, जिसका लक्ष्य 2022 तक 227 गीगावाट (गीगावाट) सोलर पावर का प्रोडक्शन करना है। यह तीन चरण का मिशन है जिसका लक्ष्य 20,000 मेगावाट इनस्टॉल करना है। हाईग्रिड सोलर पावर प्लांट, 2000 मेगावाट है और जिसमें 20 मिलियन सोलर लाइट शामिल हैं, देश में सोलर मैन्युफैक्चरिंग केपेसिटी विकसित करने के लिए अनुकूल परिस्थितियों का निर्माण करना है।

#8.1MW बिजली प्लांट इंस्टालेशन

भारत में सोलर पावर तेजी से विकसित हो रहा है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि भारत कई बड़ी केपेसिटी वाले सोलर पावर प्लांट लगा चूका हैं। आइए देखते हैं कुछ सोलर पावर प्लांट के बारे में।

भादला सोलर पार्क, राजस्थान (2255 मेगावाट)

Solar power plants installed at Badla Rajasthan India

भादला सोलर पार्क राजस्थान के जोधपुर जिले में स्थित एक 2055 मेगावाट केपेसिटी का सोलर पावर प्लांट है और कुल 10,000 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। यह भारत के सबसे बड़े सोलर पार्कों में से एक है।

शक्ति स्थल पावागड़ा सोलर पार्क, कर्नाटक (2000 मेगावाट)

Shakti Sthala Pavagada Solar Park, Karnataka
शक्ति स्थल पावागड़ा सोलर पार्क कर्नाटक में स्थित है। यह दुनिया के सबसे बड़े सोलर पावर प्लांटों में से एक है जो 2,000 मेगावाट बिजली प्रोडक्शन केपेसिटी के साथ 13,000 एकड़ में फैला है।

चरंका सोलर पार्क, गुजरात (790 मेगावाट लगभग)

Charanka Solar Park, Gujrat
चरंका सोलर पार्क दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा फोटोवोल्टिक सोलर पावर प्लांट है। यह पार्क गुजरात के पाटन जिले में इनस्टॉल है और इसकी केपेसिटी 790 मेगावाट है।

कदलाडी पावर स्टेशन, तमिलनाडु (4000 मेगावाट)

Kadaladi Power Station, Tamil Nadu

कदलाडी सोलर पार्क 2019 में रामनाथपुरम जिले के क्षेत्र में चालू होने के लिए 500MW का सोलर पार्क है और नारिपाइयुर गाँव में तांगेदको द्वारा निर्मित 4,000 मेगावाट बिजली स्टेशन का प्रस्ताव है

धीरूभाई अंबानी सोलर पार्क, राजस्थान

Dhirubhai Ambani Solar Park, Rajasthan-min

धीरूभाई अंबानी सोलर पार्क राजस्थान के जैसलमेर जिले में पोखरण के पास स्थित है। यह सोलर पावर प्लांट रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा विकसित किया गया है। 

महाराष्ट्र सोलर पावर प्लान (67.2 मेगावाट)

Maharashtra Solar Power Plant

महाराष्ट्र सोलर पावर प्लांट महाराष्ट्र के बीड जिले में स्थित है। यह सोलर पावर प्लांट अगस्त 2017 में इनस्टॉल किया गया था। इस सोलर पावर प्लांट की केपेसिटी 67 मेगावाट है और इसका नाम महाराष्ट्र राज्य के नाम पर रखा गया है।

#9. भारत में सोलर पावर का दायरा

भारत एक विकासशील देश है और इसकी जनसंख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है। भारत आने वाली दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा। भारत की केपेसिटी का दोहन करने के इच्छुक निवेशकों के बीच भारत एक सकारात्मक वातावरण प्रदान करता है। सोलर पावर के क्षेत्र में भारत को अभी लंबा सफर तय करना है।

निकट भविष्य में भारत नए संभावित क्षेत्रों का पता लगाएगा और सुनिश्चित करेगा कि सोलार पावर का अधिकतम उपयोग विश्व प्राप्त करे। भारत में सोलर पावर के राष्ट्रीय संस्थान ने देश की सोलार केपेसिटी को लगभग 750 GW पर निर्धारित किया है। महत्वाकांक्षी राज्य और केंद्र की परियोजनाओं के कारण भारत धीरे-धीरे सोलार पावर प्रोडक्शन के क्षेत्र में अपना दबदबा हासिल करने जा रहा है।

आजकल भारत सोलर पावर पर स्विच करना शुरू कर रहा है जैसा कि हम देख सकते हैं कि जीवाश्म और ईंधन के प्राइज़ दिन प्रति दिन बढ़ रहे हैं इसलिए यह इस समस्या का एक विकल्प है। भारत में निकट भविष्य में सोलर पावर के क्षेत्र का बहुत बड़ा दायरा है क्योंकि घर और उद्योगों के लिए सोलर पावर स्वच्छ पावर का एक सस्ता स्रोत है और बिना किसी रुकावट के पूरे देश में व्यापक रूप से मिल जाता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1 मेगावाट 1,000 किलोवाट या 10,00,000 वाट के बराबर होता है।

एक 1MW सोलर पावर प्लांट औसतन प्रति दिन 4000 यूनिट का प्रोडक्शन करता है।

CAPEX मॉडल में सोलर सिस्टम की इंस्टॉल लागत पूरी तरह से आपकी होगी। आपको एक ही बार में इंस्टॉल कंपनी को लागत का भुगतान करना होगा। इंस्टॉल लागत का भुगतान करने के बाद, यह आपका अपना सोलर प्लांट होगा।

OPEX (ऑपरेटिंग खर्च) मॉडल को पावर परचेज एग्रीमेंट भी कहा जाता है। इस मॉडल में सोलर सिस्टम इंस्टालेशन कंपनी 10-25 साल के लिए एक समझौते के माध्यम से अपने लागत पर पूरा सिस्टम इंस्टॉल करेगी। और आपको मासिक आधार पर प्रति यूनिट लागत का भुगतान करना होगा।

दोनों मॉडल अच्छे हैं। अगर आप कैश-रिच कंपनी हैं तो आपको CAPEX लेना चाहिए। निवेश की कमी के मामले में ओपेक्स मॉडल बेहतर है। क्योंकि अगर आप CAPEX मॉडल चुनते हैं तो आपको एक ही बार में भारी रकम चुकानी पड़ेगी। लेकिन ओपेक्स मॉडल में आप प्रति यूनिट लागत 10-25 साल के लिए मासिक आधार पर चुका सकते हैं।

हां, निश्चित रूप से आप प्रोडक्शन बिजली की अतिरिक्त मात्रा सरकार को (ग्रिड में) नेट मीटरिंग के माध्यम से निर्यात कर सकते हैं। और सरकार इसे आपके आने वाले बिजली बिलों में जोड़ देगी।

भारत सरकार पी.पी.ए आधारित सोलर पावर प्लांट के लिए निवेदन जारी करती है। आपको उसी के लिए ऐसी निवेदनाओ में न्यूनतम प्रति यूनिट प्राइस के साथ बोली लगाने की आवश्यकता है।

1 मेगावाट सोलर पावर प्लांट की अनुमानित प्राइस लगभग है। 4 से 5 करोड़।

आप किसी भी छाया मुक्त क्षेत्र में 1 मेगावाट सोलर पीवी प्लांट इंस्टॉल कर सकते हैं जहां सूरज की रोशनी बिना किसी बाधा के आ सकती है। 1 मेगावाट सोलर प्लांट लगाने के लिए 2.5 एकड़ क्षेत्र की आवश्यकता होती है।

1 मेगावाट का सोलर पावर प्लांटऔसतन प्रति दिन 4,000 यूनिट जनरेट कर सकता है। तो यह प्रति माह 1,20,000 यूनिट्स और प्रति वर्ष 14,40,000 यूनिट् जनरेट करता है।

नहीं, 1 मेगावाट सोलर प्लांट की एफिशिएंसी को बनाए रखना मुश्किल नहीं है। सोलर पैनल क्लीनिंग किट से समय-समय पर सोलर पैनल की सफाई करके सोलर पैनल के एफिशिएंसी स्तर को आसानी से बनाए रखा जा सकता है।

आम तौर पर, 1 किलोवाट के सोलर प्लांट के लिए 6 वर्ग मीटर क्षेत्र की आवश्यकता होती है। यदि आप 1 मेगावाट सोलर पीवी बिजली प्लांट इंस्टॉल करना चाहते हैं तो 6000 वर्ग मीटर (+ छाया अंतराल) क्षेत्र की आवश्यकता होगी।

इंडिया के टॉप सोलर ब्रांड्स

हम टाटा सोलर, यूटीएल सोलर, लुमिनस सोलर, पतंजलि सोलर, माइक्रोटेक सोलर, एक्साइड सोलर, वारी सोलर, विक्रम सोलर, अदानी सोलर, लुबी सोलर सहित सभी सोलर ब्रांडों में डील करते हैं।

✍️ Written by: Hari Sharan & Updated On: 04/05/2022 By: Punit

बेस्ट सेल्लिंग प्रोडक्ट्स

हमारा अमेज़न स्टोर